Green-Blood-Wheatgrass-in-hindi

100 साल तक जवानी चाहिए तो पिए ग्रीन ब्लड (Green Blood / Wheatgrass Juice)

हर कोई चाहता है स्वस्थ एवं सुंदर शरीर। क्या आप भी चाहते हैं तो सेवन करें ग्रीन ब्लड (Green Blood / Wheatgrass Juice) को ।

आजकल जिस प्रकार से लोग का जीवन रसायनिक खाद पदार्थों पर निर्भर हो चुका है। ऐसे में लाजमी हैं आपके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ना।

जिसका साफ-साफ असर आपके चेहरे पर दिखने लगता है। असमय बालों का झड़ना या पकना, चेहरे पर झुर्रियां पड़ना साथ ही साथ कई घातक बीमारियों का होना।

ऐसे में एकमात्र विकल्प है आयुर्वेदिक चीजों का अपनाना। जिससे हमारे स्वास्थ्य तो ठीक रहेंगे ही साथ-साथ एक लंबी उम्र भी मिल सकता है। इसी में से एक है अमृत के समान ग्रीन ब्लड जो कई प्रकार प्राकृतिक और उसे भरपूर है।

जिसके सेवन से शरीर मजबूत बनता ही है साथ ही साथ लगभग 40 से 50 बीमारयों को ठीक करने एवं उसे बचाने में सक्षम है।

आगे आप जानेंगे कि ग्रीन ब्लड क्या है, इस में पाए जाने वाले पोषक तत्व, इसके लाभ एवं इसे प्राप्त करने की विधि। इसलिए आप इसे अंत तक जरूर पढ़ें।

क्या है ग्रीन ब्लड (गेहूँ ज्वार रस)? What is Green Blood (Wheatgrass Juice ) in hindi-

यह एक प्रकार का रस है जिसे गेहूं के ज्वार (Wheatgrass) से प्राप्त किया जाता है। इसमें प्रचुर मात्रा में क्लोरोफिल, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, मिनरल्स पाया जाता है। इस का पीएच मान मानव रक्त के समान 4.7 पाए जाने के कारण आयुर्वेद में इसे ग्रीन ब्लड (Green Blood) कहा गया है।

यह रक्त में बहुत जल्द अभिषेसीत होने के कारण खून की कमी को दूर करता है एवं ताकत प्रदान करता है। इसका सेवन हर उम्र के महिला, पुरुष, बच्चा कर सकता है। इसकी खास बात यह है कि (Green Blood) का कोई साइड इफेक्ट नहीं है।

Green-Blood-Wheatgrass-in-hindi

ग्रीन ब्लड (Green Blood / Wheatgrass juice) में पाए जाने वाले पोषक तत्व एवं औषधीय गुण-

इसमें लगभग सभी पोषक तत्व पाए जाते हैं जो कि एक स्वस्थ शरीर को बनाए रखने में आवश्यक होता है। जो इस प्रकार है-

  • क्लोरोफिल
  • एंटीऑक्सीडेंट
  • प्रोटीन
  • कार्बोहाइड्रेट
  • मिनरल्स
  • विटामिन बी
  • विटामिन सी
  • विटामिन ई
  • कॉपर
  • आयरन
  • मैग्नीशियम
  • फाइबर

और पढ़ें – ड्रैगन फ्रूट के फायदे, नुकसान, उपयोग विधि

ग्रीन ब्लड (Green Blood) के सेवन से होने वाले लाभ – Benefits of Wheatgrass Juice in Hindi

  1. खून की कमी को दूर कर एनीमिया जैसी बीमारी के लिए रामबाण है।
  2. पीलिया में बहुत लाभदायक है।
  3. इसमें प्रचुर मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट होने के कारण टिशू निर्माण में सहायक है जो कैंसर के शुरुआती स्तर में इसके सेवन से अप्रत्याशित लाभ होता है।
  4. मूत्राशय के पथरी में इसका सफल इलाज माना जाता है।
  5. इसमें प्रोटीन एवं मिनरल्स होने के कारण शरीर को तंदुरुस्त, स्वस्थ एवं मजबूत बनाता है।
  6. कमजोरी को दूर करता है।
  7. पाचन क्रिया में सुधार करता है।
  8. इसमें प्रचुर मात्रा में औषधीय गुण होने के कारण कई रोग के निवारण में बहुत ज्यादा लाभदायक है जैसे – मधुमेह, उच्च रक्तचाप, खासी, दमा, एसिडिटी, जोड़ों के दर्द, गठिया, बवासीर, वायु विकार, नेत्र विकार, एनीमिया, त्वचा विकार, पीलिया, मोटापा इत्यादि।

और पढ़ें – खुबानी के फायदे नुकसान उपयोग विधी

कैसे प्राप्त करें ग्रीन ब्लड/गेहूं ज्वार जूस (Green Blood / Wheatgrass juice) –

  • अपने घर के पीछे या छत पर मिट्टी के छोटी-छोटी 10 क्यारियां बना ले।
  • उस पर ऊपर से पानी डाल दें एवं एक क्यारी में 50 ग्राम गेहूं को डाल दे।
  • ऊपर से छायादार बना दे जिससे सूर्य की रोशनी सीधा ना लगे।
  • फिर अगले दिन दूसरी क्यारी में 50 ग्राम गेहूं डाल दें और ऊपर से पानी डालें।
  • इस प्रक्रिया को 10 दिन तक दसों क्यारी में बारी बारी से करें।
  • दसवीं दिन पहली क्यारी के ज्वार 6 से 8 इंच का हो जाएगा उसे उखाड़कर जड़ काट कर फेंक दें।
  • एवं पति को मिक्सी में डालकर थोड़ा पानी के साथ जूस बना ले।
  • इस जुस को खाली पेट में सेवन करें।
  • एवं जिस क्यारी में से ज्वार को उखाड़े हैं उसमें फिर से 50 ग्राम गेहूं उसी दिन डाल दें।
  • इस प्रक्रिया को आप रोज करते रहें आपको रोज जवार का ताजा जूस मिलता रहेगा।
  • ध्यान रहे ज्वार 6 या 8 इंच से ज्यादा ना होना चाहिए।
  • ज्वार का जूस बनाने के तुरंत बाद इस्तेमाल कर लें। इसे 3 घंटा से ज्यादा देर तक ना छोड़े ।
  • ज्वार को सीधे सूर्य की रोशनी में न उगाएं।

ज्वार का रस (Wheatgrass) पतंजलि स्टोर पर या ऑनलाइन स्टोर Flipkart या Amazon से आसानी से प्राप्त किया जा सकता है।

ज्वार का रस कब पीना चाहिए?

ज्वार का रस खाली पेट सुबह पीना ज्यादा फायदेमंद होता है।

ज्वार का रस किसे नही पीना चाहिए ?

ज्वार का रस हर उम्र के व्यक्ति पी सकता है। यदि आपको कोई गंभीर बीमार हो तो इसके सेवन से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर ले।

इस लेख से आपने क्या सीखा –

इस लेख में अपने ग्रीन ब्लड / गेहूं ज्वार रस क्या है , इसमे पाए जाने वाले पोसक तत्व , इसके फायदे एवं इसे उगाने की विधि को जाना।

आपको यह लेख Green Blood / Wheatgrass Juice से जुड़ी जानकारी कैसा लगा नीचे कॉमेंट बॉक्स में जरूर लिखे।आपके द्वारा किया गया कॉमेंट हमे अच्छी लेख लिखने के लिए प्रेरित करता है, और साथ मे ये भी जरुर बताए यदि लेख में कोई त्रुटि हो या सुधार की जरूरत हो तो अवश्य उसके बारे में लिखे जिससे हम सुधार कर त्रुटिहीन बना सेक।

इस लेख को अपने मित्रों एवं सगे संबंधियों को जरूर शेयर करे जिससे उन्हें भी इसके फायदे एवं इसे तैयार करने की विधि जानने में आसानी हो सके।

धन्यवाद…..

शेयर करें👇मित्रों को

Leave a Comment

हेल्थ इन हिन्दी डॉट नेट इस वेबसाइट पर स्वास्थ्य से जुड़े कई टिप्स, घरेलू नुस्खें, दवाई का नाम, रोगो का निदान, योग क्रिया वाले लेख हैं। इन जानकारियों का उद्देश्य किसी चिकित्सा, निदान या उपचार के लिए विकल्प नहीं है। इस वेबसाइट के माध्यम से उपलब्ध टेक्स्ट, ग्राफिक्स, और सूचनाओं सहित सभी सामग्री केवल सामान्य जानकारी के लिए है।