Halasana benefits in hindi

हलासन के फायदे तरीका सावधानी (Halasana benefits in hindi)

योग में कई आसन बताए गए हैं और उसके अलग-अलग लाभ हैं इसी में से एक है हलासन (Halasana in hindi)। हलासन के लाभ (Halasana benefits in hindi) की बात की जाए तो जो व्यक्ति नियमित रूप से हलासन का अभ्यास करता है उस व्यक्ति को पेट संबंधित बीमारी दूर हो जाते हैं साथ ही साथ मोटापा एवं पेट की चर्बी भी दूर हो जाता है। इसके और कई लाभ है जो शरीर को स्वस्थ एवं सुडोल रखने में मदद करता है।

इस लेख में हलासन करने के तरीके इसके लाभ एवं इसे करते समय ध्यान देने वाली जरूरी सावधानियों के बारे में विस्तार से बताया गया है। हलासन की संपूर्ण जानकारी एवं कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों को जानने के लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

हलासन क्या है? What is halasana in hindi –

हलासन (Halasana in hindi) सर्वांगासन का ही एक रूप है। हलासन लेट कर की जाने वाली मध्यमवर्गीय आसन है।
इस आसन को करते समय शरीर की आकृति हल (किसान द्वारा उपयोग की जाने वाली एक प्रकार का औजार जो खेत के जुताई के लिए उपयोग किया जाता है) की तरह बनता है इसलिए इसे हलासन कहां गया है।

यह आसन नए योग साधकों के लिए थोड़ा कठिन होता है लेकिन इसे किसी योग शिक्षक के निर्देश से किया जाए तो आसान हो जाता है।

हलासन करते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना जरूरी जो नीचे के लेख में बताया गया है।

Halasana benefits in hindi

हलासन करने के विधि Kaise kare halasana in hindi –

  • सबसे पहले किसी मरम चटाई पर पीठ के बल (शवासन में)लेट जाएं।
  • दोनों हाथों को बगल में रखें एवं दोनों हथेलियां जमीन से स्पर्श कर रहा हो।
  • सांस लेते हुए दोनों पैरों को एक साथ 90 डिग्री तक उठाएं।
  • यहीं से अब सांस छोड़ते हुए पैर को सिर के ऊपर से ले जाते हुए पैर के पंजे को सिर के पीछे जमीन पर टिका दें।
  • ध्यान रहे घुटने मुड़ना नहीं चाहिए।
  • हाथों को अपने सुविधानुसार दो स्थिति में रख सकते हैं।
  • पहली स्थिति में हाथ पीठ के पीछे जमीन से स्पर्श कराकर रखें। (जैसा की ऊपर के चित्र में आप देख रहे हैं)
  • दूसरी स्थिति में अपने हाथों को पैर के पंजे के नीचे रखकर पैरों की अंगुलियों को पकड़ सकते हैं। (जैसा की नीचे के चित्र में आप देख सकते हैं)
  • इस पूर्ण स्थिति में साधारण स्वसन क्रिया करें।
  • पूर्ण स्थिति में अपने क्षमता अनुसार या 1 मिनट से 5 मिनट तक रुक सकते हैं।
  • सांस अंदर रोककर मूल अवस्था में वापस आए।

हलासन के लाभ / फायदे Halasana benefits in hindi –

योग की कई लाभ हैं उसी प्रकार हलासन के भी कई लाभ हैं जो शरीर को सुंदर सोडा और चंचल एवं स्वास्थ्य बनाए रखने में मदद करता है।

  1. आलस्य दूर करता है।
  2. तनाव एवं चिंता से छुटकारा दिलाता है।
  3. मोटापा कम कर करता है।
  4. पेट की चर्बी को दूर करता है।
  5. मेरुदंड लचीला बनता है।
  6. रक्त संचार को ठीक कर रक्त शुद्ध करने में लाभकारी है।
  7. सूक्ष्म तंत्रिका तंत्र को सशक्त बनाता है।
  8. कब्ज को दूर करता है।
  9. जठराग्नि उद्दीप्त करता है।
  10. किडनी को स्वस्थ एवं सुचारू क्रियाशील बनाता है।
  11. आंतों को स्वस्थ एवं कार्य क्षमता को बढ़ाता है।
  12. रीड की हड्डी को लचीला बनाता है।
  13. कार्य क्षमता को बढ़ाता है।
  14. थायराइड की समस्या में लाभकारी माना जाता है।
  15. गले संबंधी विकार को दूर करता है।
  16. स्त्रीरोग में लाभकारी है।
  17. गर्भाशय संबंधित विकार को दूर करता है।
  18. चेहरे के निखार को बढ़ता है।
Halasana benefits in hindi

हलासन करते समय सावधानियां – precautions of halasana in hindi –

  • कड़क मेरुदंड वाले व्यक्ति इस आसन को ना करें।
  • कमर दर्द, स्लिप डिस्क या पीठ दर्द से परेशान व्यक्ति इस आसन को करने से बच्चे।
  • सर्वाइकल, अल्सर, हर्निया से परेशान व्यक्ति शासन को ना करें।
  • उच्च रक्तचाप से ग्रसित व्यक्ति इस आसनसोल ना करें।
  • गंभीर हृदय विकार वाले व्यक्ति की इस आसन को न करें।

हलासन करते समय ध्यान देने वाले महत्वपूर्ण बातें –

  1. हलासन करते समय किसी नरम चटाई या मैट का प्रयोग करें।
  2. दोनों पैर ऊपर ले जाते समय सहजतापूर्ण एवं धीरे-धीरे ऊपर ले जाएं।
  3. हलासन के पूर्व स्थिति में आने के बाद ध्यान को आती हुई एवं जाती हुई सांसो पर केंद्रित करें।
  4. हलासन से विराम की स्थिति में आते समय अन्तः कुम्भक लगाएं एवं पैरों को धीरे धीरे ले जाएं।
  5. योगासन करने से पहले छोटी-छोटी शरीरिक अभ्यास को करें जिससे शरीर वॉर्मअप हो जाएं।
  6. हलासन करने से पहले वैसे योगासन को करें जिससे मेरुदंड, कमर, कूल्हों, कंधो आदि खुल जाय।

हलासन करने के बाद की जाने वाली आसन –

किसी भी योगासन करने के बाद उसके विपरीत आसन जरूर करना चाहिए जिससे शरीर की संतुलन बना रहे।
हलासन करने के बाद मत्स्यासन, चक्रासन, सुप्त वज्रासन, भुजंगासन, शवासन हस्त उत्थानासन एवं पीछे झुककर की जाने वाले आसन को जरूर करें।

अर्ध हलासन करने की विधि – Ardh Halasana karne ki vidhi –

  • सबसे पहले किसी नरम चटाई पर पीठ के बल लेट जाएं।
  • दोनों हाथों को बगल में जमीन से सटाकर रखें रखें।
  • हथेलियां जमीन की तरफ एवं जमीन से स्पर्श कराकर रखें।
  • अब दोनों पैरों को एक साथ 30 डिग्री से 60 डिग्री तक ऊपर उठाएं एवं थोड़ी देर इसी स्थिति में रोके।
  • इस क्रिया को आप बार-बार कर सकते हैं।

अर्ध हलासन के लाभ Ardh Halasana benefits in hindi –

जो हलासन के लाभ (Halasana benefits in hindi) है लगभग उसी में से कुछ अर्ध हलासन के भी लाभ हैं।
पेट संबंधित जितने हलासन के लाभ हैं लगभग सभी अर्ध हलासन में भी लाभ मिलता है।

इस लेख से आपने क्या सीखा –

इस लेख में आपने हलासन करने की विधि, हलासन के फायदे और आसन करते समय बरतने वाली सावधानियां एवं अर्ध हलासन करने की विधि और इसके फायदे के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त किया।

आपको यह लेख Halasana benefits in hindi से जुड़ी जानकारी कैसा लगा नीचे कॉमेंट बॉक्स में जरूर लिखे।आपके द्वारा किया गया कॉमेंट हमे अच्छी लेख लिखने के लिए प्रेरित करता है, और साथ मे ये भी जरुर बताए यदि लेख में कोई त्रुटि हो या सुधार की जरूरत हो तो अवश्य उसके बारे में लिखे जिससे हम सुधार कर त्रुटिहीन बना सेक।

इस लेख को अपने मित्रों एवं सगे संबंधियों को जरूर शेयर करे जिससे उन्हें भी हलासन के फायदे एवं इसे करने की विधि जानने में आसानी हो सके।

धन्यवाद…..

लेख स्रोत :- सम्पूर्ण योग विद्या और विकिपीडिया

शेयर करें👇मित्रों को

Leave a Comment

हेल्थ इन हिन्दी डॉट नेट इस वेबसाइट पर स्वास्थ्य से जुड़े कई टिप्स, घरेलू नुस्खें, दवाई का नाम, रोगो का निदान, योग क्रिया वाले लेख हैं। इन जानकारियों का उद्देश्य किसी चिकित्सा, निदान या उपचार के लिए विकल्प नहीं है। इस वेबसाइट के माध्यम से उपलब्ध टेक्स्ट, ग्राफिक्स, और सूचनाओं सहित सभी सामग्री केवल सामान्य जानकारी के लिए है।